वाराणसी: गंगा स्नान पर प्रतिबंध लगाने पर शंकराचार्य ने जताया कड़ा विरोध, कहा- अविवेकपूर्ण निर्णय

वाराणसी: गंगा स्नान पर प्रतिबंध लगाने पर शंकराचार्य ने जताया कड़ा विरोध, कहा- अविवेकपूर्ण निर्णय

कहा- प्रयाराज, हरिद्वार में गंगा स्नान पर छूट तो धार्मिक नगरी काशी में क्यों लगा प्रतिबंध?

वाराणसी(रणभेरी): गंगा दशहरा पर जिला प्रशासन द्वारा गंगा स्नान पर प्रतिबंध लगाने पर काशी सुमेरूपीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी नरेन्द्रानंद सरस्वती ने कड़ा विरोध जताया है। जिला प्रशासन के इस निर्णय को विवेकहीन निर्णय बताते हुए शंकराचार्य ने कहा कि धार्मिक नगरी काशी में गंगा दशहरा पर गंगा मे स्नान करने पर प्रतिबंध लगाना अविवेकपूर्ण निर्णय है। 

स्वामी नरेन्द्रानंद सरस्वती ने कहा कि प्रयागराज, अयोध्या, हरिद्वार सहित गंगा किनारे बसे सभी नगरों में गंगा स्नान हो रहा है वहां कोरोना का संक्रमण नहीं फैलेगा, क्या सिर्फ काशी में ही कोरोना महामारी फैली है। जिला प्रशासन के इस निर्णय से काशी के संत समाज को काफी दुख हुआ है। उनको जब प्रतिबंध लगाना ही था तो वह आज पूरे शहर को ही बंद कर दिये होते, क्यों आज बाजारों को खोले हुए है, क्या इससे  कोरोना का संंक्रमण नहीं फैलेगा।