वाराणसी: बाबा काल भैरव के मंदिर में एक साथ केवल 20 लोगों को मिलेगा प्रवेश

वाराणसी: बाबा काल भैरव के मंदिर में एक साथ केवल 20 लोगों को मिलेगा प्रवेश

वाराणसी(रणभेरी): 8 जून से काशी में देवालयों के कपाट खोलने की तैयारी बृहद् स्तर पर हो रही है। श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में जहां भक्तों को बाबा के झांकी दर्शन से संतोष करना होगा वहीं काशी के कोतवाल बाबा काल भैरव के दर्शन के लिए एक बार में सिर्फ 20 श्रद्धालु ही मंदिर में प्रवेश कर सकेंगे। इस सम्बन्ध में मंदिर प्रशासन तैयारियों में लगा हुआ है। वैश्विक महामारी कोरोना काल में धर्म की नगरी काशी में देवालय भी बंद हैं। 

श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर 20 मार्च से तो काल भैरव मंदिर, संकटमोचन मंदिर और दुर्गा मंदिर आम जनमानस के लिए 22 मार्च से बंद है। लॉकडाउन-5 में 8 जून से देवालयों और धार्मिक स्थलों को शर्तों के साथ खोलने की बात है। ऐसे में काशी के देवालयों में भी इसे लेकर तैयारियां चल रही है। श्री काशी विश्वनाथ में भक्तों को झांकी दर्शन की अनुमति होगी। सभी को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा और सभी की थर्मल स्कैनिंग भी होगी, यदि कोई बीमार मिला तो उसे वहां तैनात एम्बुलेंस से तुरंत चिकित्सालय भेजा जाएगा।

काल भैरव मंदिर में सोशल डिस्टेंसिंग का खयाल रखते हुए एक बार में सिर्फ 20 श्रद्धालुओं को ही मंदिर में प्रवेश मिलेगा। मंदिर को सुबह और शाम दो बार अच्छी तरह से सेनीटाइज किया जाएगा। इसके अलावा संकटमोचन मंदिर, दुर्गा मंदिर और अन्य मंदिरों में मंदिर प्रशासन सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए मंदिर खोलने की रूपरेखा बनाने में लगा हुआ है।