वाराणसी: धरने पर बैठे छात्र को बीएचयू के सुरक्षा अधिकारी ने मारी लात, मचा बवाल

वाराणसी: धरने पर बैठे छात्र को बीएचयू के सुरक्षा अधिकारी ने मारी लात, मचा बवाल

बीएफए प्रवेश परीक्षा में धांधली को लेकर पिछले चार दिनों से धरने पर बैठे हैं छात्र

वाराणसी (रणभेरी): एशिया ही नहीं बल्कि विश्व की प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय काशी हिन्दू विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षा और कार्यप्रणाली इस समय सवालों की घेरे में है। आए दिन भ्रष्टाचार पर भ्रष्टाचार के खुलासे हो रहे हैं, प्रवेश परीक्षा में धांधली के आरोप लग रहे हैं। कई लोगों के पास भ्रष्टाचार और लापरवाही के पुख्ता सबूत भी हैं पर कार्रवाई कुछ नहीं हो रही है। सारे अधिकारी यहां तक कि कुलपति भी गूंगे बहरे बन चुके हैं। आज तो हद हो गई। बीएफए प्रवेश परीक्षा में हुई भारी धांधली को लेकर सेंट्रल ऑफिस के बाहर बैठे छात्र अजीत कुमार दिवाकर को बीएचयू प्रॉक्टिोरियल बोर्ड के सुरक्षा अधिकारी हसन अब्बास जैदी ने लात से मार दिया और लात से मारते हुए कहा भी कि बनाओ वीडियो, जो करना है कर लो।

यह भी पढ़ें: वाराणसी: धान की कटाई कर रही थी महिला, तभी पहुंच गया जेठ और कर दिया...

बता दें कि प्रवेश परीक्षा में धांधली को लेकर 40 छात्र-छात्राएं धरने पर बैठे हैं। पिछले चार दिनों से वे धरना प्रदर्शन पर बैठे थे जिसके बाद बीएचयू प्रशासन ने यह कहकर उन्हे वापस भेज दिया कि उन्हें फोन कर सूचित किया जाएगा पर दो दिन बाद भी बीएचयू की तरफ से छात्रों को कोई फोन नहीं आया। जिसके बाद आज छात्र यह सवाल पूछने गए कि हमें न्याय कैसे मिलेगा इस पर प्रॉक्टिोरियल बोर्ड के सुरक्षाकर्मी आपा खो बैठे और छात्रों के साथ बदसलूकी की। सुरक्षा निरीक्षक जैदी ने तो हद ही कर दी और छात्र को लात से मार दिया।

यह भी पढ़ें: बनारस के इस गांव में 1 साल से नहीं मिला मनरेगा मजदूरों का पैसा, घपले-बाजी की खुली पोल

भ्रष्टाचार का विश्वविद्यालय बन चुका है बीएचयू:

छात्र सौरभ ने बताया कि हमें सुरक्षाकर्मियों ने घसीटा भी। हम यह जानते थे कि महामना की बगिया बीएचयू विद्या की राजधानी है पर यहां आकर हम जो देख रहे हैं इससे यह पता चल रहा है कि यह भ्रष्टाचार का विश्वविद्यालय बन चुका है। छात्रों के साथ अपराधियों जैसा व्यवहार किया जा रहा है। छात्र आनंद ने बताया कि बीएचयू के बीएफए प्रवेश परीक्षा में भारी धांधली हुई है। जिस छात्र को गुब्बारा तक नहीं बनाने आया है उसे पहला रैंक मिला है। पर विडंबना यह है कि इतने भारी धांधली के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।