बीजेपी के अच्छे दिनों के लिए अलर्ट है चुनाव परिणाम!

बीजेपी के अच्छे दिनों के लिए अलर्ट है चुनाव परिणाम!

महाराष्‍ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के परिणामों ने भारतीय जनता पार्टी को झकझोर कर रख दिया है। चुनाव परिणाम से पहले जीत के लिए निश्चिंत बीजेपी को इन परिणामों से बहुत बड़ा सबक मिला है। वहीं जम्मू-कश्मीर को विशेषाधिकार देने वाले आर्टिकल 370 को हटाए जाने के करीब दो महीने बाद प्रदेश में पहला चुनाव कराया गया। जिसके परिणाम भाजपा के लिए उत्‍साहवर्धक नही है। इनसे पता चल चुका है कि जनता किस मूड में है। हालांकि महाराष्ट्र और हरियाणा चुनाव नतीजों में सबक बीजेपी और कांग्रेस दोनों के लिए है। बीजेपी के लिए विशेष रूप से है क्योंकि जल्द ही दिल्ली, बिहार और झारखंड चुनाव में होने वाले हैं।अब सवाल उठता है कि क्या बीजेपी को अगले विधानसभा चुनावों में भी ऐसी ही 'त्रिशंकु' खुशी मिलेगी !

स्‍थानीय मुद्दो को नजरअंदाज करना पड़ा भारी-
भले ही बीजेपी महाराष्ट्र के साथ साथ हरियाणा में भी सरकार बनाने जा रही है और अभी भी बीजेपी के खिलाफ कोई बड़ा विकल्‍प नजर नही आ रहा लेकिन बीजेपी ने रवैया बदला नहीं तो आने वाले चुनाव में भी ऐसे ही नजीतें होगे। महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के नतीजे बीजेपी नेतृत्व के लिए कई मामलों में अलर्ट हैं। इसलिए माना जा रहा है कि जल्द ही बीजेपी अगले विधानसभा चुनावों की तैयारी तेज करने वाली है। भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह और वरिष्‍ठ नेताओं को अच्‍छे से समझ आ चुका है कि स्‍थानीय समस्‍याओं को नकार कर केवल राष्‍ट्रवाद के दम पर बहुमत हासिल नही किया जा सकता है। राष्ट्रवाद मुद्दा है, लेकिन उसकी भी सीमा है। ये तो कतई नहीं कहा जा सकता कि लोगों ने बीजेपी के राष्ट्रवाद के मुद्दे को खारिज कर दिया है। हां, नतीजे ही ये भी बता रहे हैं कि राष्ट्रवाद, धारा 370 या पाकिस्तान जैसे मुद्दे चुनावी थाली का जायका बढ़ा सकते हैं, लेकिन उसमें मूल तत्व बेहद जरूरी हैं और उन्हें नजरअंदाज करने का खामियाजा भी भुगतना पड़ेगा।