25000 होमगार्डों की नौकरी बची, यूपी सरकार ने वापस लिया फैसला

25000 होमगार्डों की नौकरी बची, यूपी सरकार ने वापस लिया फैसला
25000 होमगार्डों की नौकरी बची, यूपी सरकार ने वापस लिया फैसला

लखनऊ। दिवाली से पहले उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने होमगार्डों के लिए बड़ी खुशखबरी दी है राज्य में सभी 25 हजार होमगार्डों की सेवाएं जारी रहेंगी। अपर मुख्य सचिव गृह ने गुरुवार को आदेश जारी करके होमगार्डों की सेवाओं को बहाल कर दिया। कानून व्यवस्था के दृष्टिगत भी होमगार्डों की सेवाएं जारी रहने के संबंध में आदेश दिए गए हैं।

बता दें कि पुलिस के सिपाही के बराबर होमगार्ड को वेतन देने के कोर्ट के निर्देश के बाद राज्य में होमगार्ड का वेतन बढ़ाया गया था। होमगार्ड का एक दिन का वेतन 500 रुपये से बढ़कर 672 रुपये किया गया था। जिसका सीधा प्रभाव जिलों के बजट पर पड़ा। जिसके बाद पुलिस विभाग ने 25 हजार होमगार्ड जवानों की ड्यूटी समाप्त करने का निर्णय लिया था। थानों में पुलिस बल की कमी की वजह से पिछले दिनों होमगार्ड जवानों को कानून व्यवस्था की ड्यूटी में लगाने का निर्णय लिया गया था। इसके लिए होमगार्ड विभाग ने 25 हजार जवानों को पुलिस ड्यूटी के लिए दिया था, जो थानों से लेकर चौराहों पर ट्रैफिक तक संभाल रहे हैं। होमगार्ड जवानों द्वारा दी गई सेवा के मानदेय का माहवार आकलन एक हते में करने को भी कहा गया है।

हालांकि बाद में योगी सरकार ने अपने फैसले से यू-टर्न ले लिया था। डीजीपी से बातकर सीमित बजट में ड्यूटी देने का सुझाव दिया गया है। यूपी पुलिस अपने सीमित बजट में 17000 होमगार्डों को ड्यूटी देगी। वहीं 8000 होमगार्ड को मुख्यालय में ड्यूटी मिलेगी। उत्तर प्रदेश के होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान ने कहा था कि किसी भी होमगार्ड को नहीं निकाला जाएगा, सभी अपनी दीपावली अच्छी तरह मनाएं। उन्होंने आश्वासन दिया था कि कोई भी होमगार्ड बेरोजगार नहीं होगा। होमगार्ड मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ संवेदनशील हैं और होमगार्डों की ड्यूटी पर जरूर कोई रास्ता निकलेगा।