वाराणसी: एनजीटी का आदेश धुआं-धुआं, निगम जला रहा खुलेआम कूड़ा

वाराणसी: एनजीटी का आदेश धुआं-धुआं, निगम जला रहा खुलेआम कूड़ा

स्वच्छता के नाम पर नगर में धड़ल्ले से जलाया जा रहा है कूड़ा
असि नदि के तट पर सफाईकर्मी आये दिन जलाते है कूड़ा


वाराणसी(रणभेरी): एक तरफ जिला प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आला अधिकारियों द्वारा कूड़ा जलाने वालों का पता बताने पर एक हजार रूपये का ईनाम घोषित कर शहर को वायु प्रदूषण से निजात दिलाने की कोशिश में लगी है। वहीं दूसरी तरफ नगर निगम व उनके सहायक निजी संस्था के सफाईकर्मियों द्वारा स्वच्छता के नाम पर चोरी छिपे कूड़ो का जलाया जा रहा है।

असि नदी के किनारे जलाया जा रहा है कूड़ा:

नगवां स्थित रविदास पार्क के ठीक बगल में असि नदी के किनारे सफाईकर्मियों द्वारा आये दिन कूड़ा जलाया जा रहा है।  असि नदी के तट पर कूड़ा जलाने से क्षेत्र में वायु प्रदूषण के फैलने से लोगों को काफी परेशानी हो रही है। पार्क में सुबह टहलने जाने वाले लोगों को सबसे अधिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। क्षेत्रीय नागरिको का कहना है कि सफाईकर्मियों द्वारा आये दिन कूड़ा जलाया जा रहा है।

जीव-जंतु हो रहे है प्रभावित:

असि नदी के किनारे कूड़ा जलाने से नदी के तट पर रह रहे जीव-जंतुओं को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।  कूड़ा जलाने की वजह से हजारों जीव-जंतु आग में जलकर खत्म हो रहे है।  साथ ही रविदास पार्क में लगे पेड़-पौधो भी कूड़े के धुंए से प्रभावित हो रहे है। पेड़ो की पत्तियां जलकर नष्ट हो रही है।

कूड़ा उठाने न पड़े इसलिए जला रहे कूड़ा:

नगर निगम व निजी संस्था के सफाईकर्मी कूड़ा न उठाना पड़े इसलिए सड़को व गलियों की सफाई करने के बाद कूड़ा एकत्र कर उसमें आग लगाकर गायब हो जा रहे है। सफाईकर्मियों द्वारा कूड़ा जलाने की वजह से क्षेत्र में रहने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।  कूड़े से उठने वाली धुंए से सबसे ज्यादा परेशानी सांस व हृदय रोगियों को हो रही है, धुंए से उनको सांस लेने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

नगर निगम व प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड झांड़ रहे पल्ला:

कूड़ा जलाने की सूचना देने पर एक हजार रूपया इनाम देने की घोषणा करने वाली उत्त्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के वारााणसी प्रभारी कालिका सिंह ने कूड़ा जलाने की सूचना देने की बात पर पहले तो नगर निगम द्वारा कार्रवाई करने की बात कर रहे थे लेकिन जब उनको याद दिलाया गया कि उनके विभाग द्वारा कूड़ा जलाने की सूचना देने पर एक हजार रूपया ईनाम देने की घोषणा के साथ-साथ कूड़ा जलाने वालों पर कार्रवाई करने की बात कही गयी है पर बात को पलटते हुए कालिका सिंह ने कहा कि हमारे पास वर्कर की कमी है, अगर नगर निगम कूड़ा जलाने वाले को चिन्हित करे तो वह उसपर कार्रवाई करेगी। वहीं अपर नगर आयुक्त अजय कुमार सिंह ने कहा कि नगर में सफाई के लिए रखे गये निजी संस्था के सफाईकर्मियों द्वारा कूड़ा जलाया जा रहा है। अगर नगर निगम के सफाईकर्मी कूड़ा जलाते पाये गये तो उनपर कार्रवाई की जायेगी।