कवरेज के दौरान पत्रकार दानिश सिद्दिकी की हत्या

कवरेज के दौरान पत्रकार दानिश सिद्दिकी की हत्या

(रणभेरी)। अफगानिस्तान में कंधार के स्पिन बोल्डक इलाके में भारतीय पत्रकार दानिश सिद्दिकी की हत्या हो गई है। सिद्दिकी बीते कुछ दिनों से कंधार में जारी हालात की कवरेज कर रहे थे। कंधार में इस समय भीषण हिंसा हो रही है। मिली जानकारी के अनुसार दानिश सिद्दिकी की मौत उस समय हुई जब तालिबान और अफगान सरकार के सुरक्षाबलों के बीच जंग हो रही है। अफगानिस्तान के राजदूत फरीद ममूदे ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी अपने ट्विटर हैंडल पर दी है। 

दानिश न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के लिए काम करते थे। दानिश सिद्दिकी को रोहिंग्या शरणार्थियों के असाधारण कवरेज के लिए साल 2018 में पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था। जानकारी के मुताबिक स्पिन बोल्डक जिला पाकिस्तान से सटा हुआ है। हत्या किसने की और इसकी वजह क्या थी, इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं सामने आई है। दानिश ने अपने ट्विटर हैंडल पर 13 जुलाई को एक पोस्ट की थी। इसमें उन्होंने बताया था कि वे पूरे अफगानिस्तान कई मोर्चों पर लड़ाई लड़ रही अफगान स्पेशल फोर्सेस के साथ हैं।

  • कोरोना काल में की थी शानदार कवरेज, मिल चुका है Pulitzer अवॉर्ड

साल 2018 में दानिश सिद्दीकी को Pulitzer Prize से नवाजा गया था, ये अवॉर्ड उन्हें रोहिंग्या मामले में कवरेज के लिए मिला था। दानिश सिद्दीकी ने अपने करियर की शुरुआत एक टीवी जर्नलिस्ट के रूप में की थी, बाद में वह फोटो जर्नलिस्ट बन गए थे. दानिश सिद्दीकी ने साल 2008 से 2010 के बीच इंडिया टुडे ग्रुप के साथ भी काम किया है।