आपदा में अवसर, भाजपाई भर रहे अपना घर

आपदा में अवसर, भाजपाई भर रहे अपना घर

वाराणसी (रणभेरी): वाराणसी के सांसद और देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले साल कोरोना संक्रमण के चलते हुए लॉक डाउन में आपदा में अवसर तलाशने की बात कही थी। उनका कहने का आशय चाहे जो भी रहा हो, लेकिन भारतीय जनता पार्टी के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने इसका दूसरा ही मतलब निकाल लिया है।

वे आपदा में अवसर तलाशकर अपना घर भरने में लग गए हैं। खासकर संगठन के जिम्मेदार पदों पर बैठे लोग तो इस महामारी के दौर में दूसरों की सेवा करने की बजाय अपना घर भरने में लग गए हैं। यह स्थिति तब है, जबकि भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने पार्टी कार्यकर्ताओं से महामारी से जूझ रहे लोगों की सेवा-सहायता करने का आवाह्न किया है। जबकि इसके उलट हो रहा है। 

ताजा मामला कोतवाली इलाके के राजमंदिर वॉर्ड स्थित मंगला गौरी के सामने आया है, जहां भाजपा कार्यकर्त्री सीता घिमिरे एक स्वयंसेवी संस्था ‘ह्यूमैनिटी ट्रस्ट’ के पदाधिकारियों से राशन लेती दिख रही हैं। सोशल मीडिया पर वॉयरल इस तस्वीर की चहुंओर आलोचना हो रही है। लोगों का कहना है कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता और पदाधिकारी लोगों की सेवा का दम्भ भरते हैं, लेकिन उनके ही कार्यकर्ता और पदाधिकारी इस मिशन को पलीता लगा रहे हैं। 

दरअसल, सीता घिमिरे सूबे के पर्यटन एवं धर्मार्थ कार्य राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. नीलकंठ तिवारी, क्षेत्रीय अध्यक्ष महेश चन्द्र श्रीवास्तव, जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा समेत भाजपा के जनप्रतिनिधियों और संगठन के पदाधिकारियों की करीबी हैं। वे अक्सर पार्टी के होने वाले कार्यक्रमों में सक्रिय रहती हैं।

स्थानीय लोगों का कहना है कि सीता घिमिरे आर्थिक रूप से कमजोर भी नहीं हैं, फिर भी स्वयंसेवी संस्था द्वारा राशन लेकर वे क्या साबित करना चाहती हैं। इसकी बजाय उन्हें कोरोना महामारी की विभीषिका से जूझ रहे लोगों की सहायता करनी चाहिए थी। इससे समाज में सार्थक संदेश जाता, लेकिन इसके बजाय उन्होंने खुद ही सहयोग लेना शुरू कर दिया। उनके इस कृत्य की चहुंओर आलोचना हो रही है।