न कानून का डर ना लगाम, ज्यादा किराया वसूल रहे खुलेआम

न कानून का डर ना लगाम, ज्यादा किराया वसूल रहे खुलेआम

वाराणसी (रणभेरी): कोरोना संक्रमण रोकने को लेकर जिला प्रशासन ने आटो और ई-रिक्शा में तीन सवारी बैठाने का फरमान जरूर जारी कर दिया, लेकिन यह सवारियों के लिए मुसीबत साबित हो रहा है। आदेश की आड़ में कम सवारी बैठाने का हवाला देकर चालक मनमाना किराया वसूल रहे हैं। यानी, गंतव्य तक यात्रियों से डेढ़ से दोगुना तक किराया वसूला जा रहा है। इसको लेकर आए दिन सवारियों और चालकों में किचकिच हो रही है। यह बात भी दीगर है कि ट्रैफिक पुलिस से शिकायत करने के बावजूद भी हालात जस के तस हैं। 

जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा के सख्त आदेश के बावजूद आटो चालक अपनी मनमानियों से बाज नहीं आ रहे है। प्रशासन संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए कड़े निर्देश दे रही है लेकिन हकीकत में इसका पालन होता नजर नहीं आ रहा है। इसका परिणाम आम पब्लिक  को भुगतना पड़ रहा है। दरअसल, कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जिलाधिकारी के निर्देशानुसार ऑटो में तीन से ज्यादा यात्रियों की मनाही है। बावजूद इसके आटो और ई-रिक्शा चालक तीन से ज्यादा सवारियों को बैठाकर महामारी को दावत दे रहे हैं। लोगों की सेहत के साथ खुलेआम खिलवाड़ हो रहा है। 

ऐसे में रोज आने-जाने वाले यात्रियों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। स्वाति शुक्ला, हर्षिता पांडेय, निधी पटेल, आंचल केशरी, प्रिया मौर्या, दीपिका गुप्ता, आकाश पटेल, राकेश कुमार, प्रदीप विश्वकर्मा, सौरभ कुमार आदि का कहना है कि आटो चालकों की मनमानी बढ़ती जा रही हैं। शिकायत करने पर भी पुलिस या जिला प्रशासन में कोई सुनवाई नहीं हो रही है। यात्रियों के हितों को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन को ज्यादा किराया वसूलने वाले आटो और ई-रिक्शा चालकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।