वाराणसी: ढिठाई या सत्ता की सनक, शिकायत के बाद भी नहीं बनी जनकपुर की सड़क 

वाराणसी: ढिठाई या सत्ता की सनक, शिकायत के बाद भी नहीं बनी जनकपुर की सड़क 

रामनगर जनकपुर कॉलोनी की मुख्य सड़क पर महीनों से बजबजा रहा सीवर
खड़ंजा हो चुका है पूरी तरह ध्वस्त, गड्ढों की अधिकता से आए दिन होती है दुर्घटना
आवागमन हुआ दूभर, जान कर अनजान बनी नगर पालिका परिषद की चेयरमैन रेखा शर्मा

वाराणसी (रणभेरी): प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र और स्मार्ट सिटी की एक मुख्य कॉलोनी की सड़क महीनों से खराब हो। सड़क पर सीवर बजबजा रहा हो, खडंजा ध्वस्त हो चुका हो, गड्ढों की भरमार हो और बार-बार शिकायत के बाद भी जिम्मेदार कुंभकर्णी निद्रा में सोया हुआ हो तो इसे क्या कहा जाएगा। या तो ढिठाई बस वह सड़क नहीं बन पा रही है या फिर पद में आसीन व्यक्ति को यह मद हो गया है कि कुछ भी हो जाए यह कुर्सी नहीं जाएगी।

यह भी पढ़ें: वाराणसी: धान की कटाई कर रही थी महिला, तभी पहुंच गया जेठ और कर दिया...

दरअसल यह सड़क है रामनगर के जनकपुर कॉलोनी की। जिसकी बदहाली की पूरी कहानी सुनने और जानने के बाद भी नगर पालिका परिषद की अध्यक्ष रेखा शर्मा चुप्पी साधे बैठी हैं। स्थानीय लोग मजबूरी में गिरते-पड़ते किसी तरह इस रास्ते से आ जा रहे हैं पर लोगों के दर्द से न तो चेयरमैन को मतलब है और न ही स्थानीय सभासद को।

सड़क की स्थिति इतनी खराब है कि वाहन तो छोड़िए अगर रात के अंधरे में कोई व्यक्ति पैदल उस रास्ते से गुजरता है तो उसका गिरना और सर फटना तय है। शर्मनाक बात तो यह है कि स्थानीय निवासियों ने कई बार फोन कर रेखा शर्मा को इस गली की बदहाली बताई है पर वे मानने के लिए तैयार ही नहीं है और न ही उन्हें इतना समय है कि वे एक बार भी इधर अवलोकन करने आ सकें।

यह भी पढ़ें: घर से उठने वाली थी डोली, लेकिन मां से हुई कहासुनी तो उठ गयी अर्थी

चेयरमैन का नहीं उठा फोन:

इस संदर्भ में बातचीत करने के लिए जब हमने नगर पालिका परिषद रामनगर की चेयरमैन रेखा शर्मा को फोन किया तो बार-बार कॉल जाने के बाद भी उनका फोन नहीं उठा। हालांकि ऐसा भी हो सकता है कि अध्यक्ष महोदय को कहीं विकास कार्य में लगी हुई हों। पर यह कार्य भी बेहद जरूरी है और संज्ञान में होने के बाद भी इस मुख्य गली का न बनना उनके सत्ता की सनक को बयां करता है।