वाराणसी: श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ बैंक और डाकघरों में हड़ताल, जनता रही बेहाल

वाराणसी: श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ बैंक और डाकघरों में हड़ताल, जनता रही बेहाल

ट्रेड यूनियन के भारत बंद का एटीएम मशीनों पर भी पड़ा असर

वाराणसी(रणभेरी): राज्य और केंद्र सरकार के नीतियों के खिलाफ ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर बुधवार को बीमा भारत बंद रहा। जिसके चलते बैंकों, डाकघरों समेत कई केंद्रीय विभागों में कामकाज ठप पूरी तरह से ठप रहेगा। कई बैंकों में हड़ताल से एटीएम पर भी असर पड़ा। इस देशव्यापी हड़ताल से कई बैंको के शामिल होने की वजह से लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ा। हड़ताल में ट्रेड यूनियनों ने संयुक्त बयान में कहा कि हम हड़ताल के जरिए सरकार से श्रमिक विरोधी नीतियों को वापस लेने की मांग करते हैं। उनके अनुसार श्रम मंत्रालय अब तक श्रमिकों को उनकी किसी भी मांग पर आश्वासन देने में नाकाम रहा है।\

ऋण वसूली के कठोर उपायों की मांग

जेल रोड स्थित यूनियन बैंक पर श्रम विरोधी नीतियों के विरोध में बुधवार को कामगार देशव्यापी हड़ताल में शमिल हुए। कामगारों के राष्ट्रीय सम्मेलन के मांग-पत्र के समर्थन में कथित बैंकिंग सुधारों एवं बैंकों के अवांछित विलय के विरोध में कॉरपोरेट घरानों से चूक किये ऋणों की वसूली के कठोर उपायों की मांग के लिये लोगों ने प्रदर्शन किया। धरना प्रदर्शन में पूर्व प्रांतीय अध्यक्ष किशोर मुरारका, संगठन मंत्री आशुतोष मिश्रा, एस एन यादव मंत्री, सुनील मौर्या सहायक मंत्री सहित कई लोग मौजूद थे।

24 सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदर्शन:

केन्दीय श्रम संगठन, औद्योगिक फेडरेशन और केन्द्रीय कर्मचारी संगठनों के आह्वान पर देशव्यापी आम हड़ताल मेंनेशनल यूनियन डाक कर्मचारी संप पी-3 एवं पी-4 एवं अखिल भारतीय डाक परिवहन सेवा सहित सभी शामिल रहे। सरकार की श्रमिक विराधी नीतियों के खिलाफ दोनो संघ यूनियन के सदस्यों ने मुख्य डाकघर, कैंट के सामने धरना प्रदर्शन किया। अध्यक्ष जगदीश शादेजा ने इस हड़ताल को सम्बोधित किया और यह बताया कि हड़ताल क्यों जरूरी है। राज नारायण सिंह ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि यदि कर्मचारियों की मांगे नहीं मानी गई तो भविष्य में केन्द्रीय नेतृत्व के निर्देश पर बड़ा हड़ताल होगा। 

प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों में सुशान्त कुमार झा, अनिल कुमार श्रीवास्तव, राजेश राय, प्रयाग पाण्डेय, अनिल कुमार सिंह, शिवपूजन विश्वकर्मा, सुभाष चौरसिया, जे.पी शमा दुर्गेश चतुवेर्दी, इन्द्रमणि तिवारी, योगेन्द्र कुमार, अरविन्द सिंह, राजेश तिवारी, राकेश चन्द्र किरन, सदानन्द, विजय कुमार, ताराचन्द्र पाठक, विक्रम, गोपाल सिंह, रियाजुद्दीन, राम प्रताप, अभिषेक पाण्डेय, कुलभूषण तिवारी.हरिशंकर यादव,राम पाण्डेय सहित वाराणसी पूर्व मण्डल की बड़ी संख्या में महिला कर्मारियों मे भाग लिया।

प्रधान डाकघर के सामने लगे नारे:
केन्द्र सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों व उनकी लम्बित माँगों के प्रति घोर उदासीनता के विरोध में अधिसंख्य कर्मचारी परिसंघों द्वारा बुधवार को एक दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल में कैन्ट प्रधान डाक के सामने सभी शामिल हुए। प्रान्तीय अध्यक्ष सुभाष शाह के नेतृत्व में डाक विभाग एवं आएमएस के कर्मचारी सुबह 10 बजे से शाम 5  बजे तक हड़ताल पर रहे। अपने मांगों के समर्थन में दिन भर मीटिंग किये, बैठक किये एवं नारे लगाते रहे। 

हड़ताली कर्मचारियों को संबोधित करते हुए सुभाष शाह ने कहा कि  हमारी मांगे अगर नही मानी गयी तो हम आगे अनिश्चित कालीन हड़ताल करेंगे। हड़ताल में प्रमुख रूप से शामिल नरेन्द्र सिंह, बसन्त लाल यादव, उदयभान चौरसिया, सीवी उपाध्याय, सीता राम यादव, अनिल सिंह, जय प्रकाश सिंह, विजय मौर्या, गुरूदत गुप्ता, संतोष विश्वकर्मा, आशुतोष कुमार शाह शामिल रहे।