वाराणसी: लॉकडाउन के बीच हमदर्द बन रही पुलिस, गरीबों में राहत सामग्रियों का किया वितरण

वाराणसी: लॉकडाउन के बीच हमदर्द बन रही पुलिस, गरीबों में राहत सामग्रियों का किया वितरण

वाराणसी(रणभेरी): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों तक देश में लॉकडाउन की घोषणा की है, ताकि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। वहीं, लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने के लिए पुलिस ने सख्त रुख अपनाया है। इसी बीच वाराणसी पुलिस गरीबों के लिए मसीहा बन कर सामने आई है। कोरोना वायरस के प्रकोप के मद्देनजर वाराणसी पुलिस जरूरतमंदों के लिए भोजन तैयार कर उन्हें वितरित कर रही है। लॉकडाउन को लेकर जहां बाजार, यातायात सब बंद है ऐसे में गरीबों पर भोजन का संकट नजर आने लगा है। ऐसे में वाराणसी जिले में कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच वाराणसी पुलिस गरीबों और जरूरतमंदों के लिए हमदर्द बनी है।

खिड़किया घाट स्थित गोवेर्धन धाम में सीओ कोतवाली प्रदीप सिंह चंदेल ने आदमपुर थानाप्रभारी सतीश कुमार सिंह व एसआई सदानन्द राय संग मिलकर गरीबों और जरूरतमंदों लोगों में भोजन व आवश्यक वस्तुएं वितरित किया। पुलिस की इस दरियादिली को देख लोग काफी खुश है। वहीं लॉकडाउन के दौरान कोतवाली पुलिस भी गरीबों के लिए मसीहा बन गई है। 

कोतवाली थानाप्रभारी महेश पांडेय ने तो न सिर्फ अपने क्षेत्र के कई इलाकों में जाकर लगभग 250 परिवारों को खाना और राशन का सामान वितरित किया। बल्कि बेघर लोगों को टाउन हॉल स्थित शेल्टर होम में रहने की भी उचित व्यवस्था का इंतजाम किया है। पुलिस की दरियादिली को देख काफी लोग खुश हुए। 

बता दें कि लॉकडाउन लगने के बाद जिन परिवारों के बाद राशन का पैसा खत्म हो गए थे उन परिवारों की सूचना जिला प्रशासन व् पुलिस प्रशासन को मिली तो आनन-फानन में पूरे शहर के थाना प्रभारियों के माध्यम से लोगों को मुफ्त खाना बांटा गया। चौक थाना प्रभारी डॉ. आशुतोष तिवारी ने कहा कि क्षेत्र में कई परिवार ऐसे भी जो हर रोज कमाने खाने वाले है। ऐसे लोगों के पास पैसे नहीं होने की सुचना मिलने पर हम लोगों ने क्षेत्र के कई इलाकों में गरीबों को खाना बांटा, ताकि कोई भूखा न मरे और न तड़पे। 

एन्टी रोमियो स्क्वायड प्रभारी राजीव सिंह को बनारस की सड़कों पर गरीब व जरुरतमंद लोगों को भोजन का पैकेट बांटते देखा जा रहा है। राजीव ने बतलाया वो अपने जिप्सी में भोजन के पैकेट व मिनिरल वाटर रख निकल पड़े हैं बनारस की वीरान सड़को पर। जहां भी गरीब असहाय लोग दिखाई पड़ रहे उन्हें भोजन के पैकेट व पानी दिया जा रहा है। इंस्पेक्टर राजीव ने बतलाया कि उनका पूरा स्टाफ इस इंतजाम में लगा हुआ है।