वाराणसी: ' पीएम के आदर्श गांव के इस मार्ग पर डिप्टी सीएम को नहीं ले जाना चाहते अधिकारी, खुल जाएगी कलई'

वाराणसी: ' पीएम  के आदर्श गांव के इस मार्ग पर डिप्टी सीएम को नहीं ले जाना चाहते अधिकारी, खुल जाएगी कलई'

डिप्टी सीएम देंगे ध्यान तो शुुरू हो जाएगा महीनों से रूके सड़क निर्माण का काम, 
वर्षों से मिट्टी की सड़क और कीचड़ का दंश झेल रहे ग्रामवासियों को मिल सकती है राहत

वाराणसी(रणभेरी): कहने को तो डोमरी प्रधानमंत्री का गोद लिया आदर्श गांव है पर यहां की बुनियादी दुर्व्यवस्थाएं किसी पिछड़े गांव से भी पिछड़ी हैं। गंगा उस पार का गांव होने से विभागों के अधिकारी भी इस गांव पर उतना ध्यान नहीं देते जो काम होता भी है वह महज कागजी ही होता है। पीएम के गोद लेने के बाद भी कुछ भी आम सुविधाएं लोगों को मयस्सर नहीं है। वर्षों से डोमरी गांव के निवासी मिट्टी की सड़क और कीचड़ में आने-जाने को मजबूर हैं। देहरादून स्कूल से सेमरा रोड को जोड़ने वाले मार्ग का हाल तो और बेहाल है।

हजारों की अबादी के आवागमन के साथ डोमरी और रतनपुर गांव को जोड़ने वाला यह मुख्य रास्ता है। यहीं नहीं इस रास्ते में चार स्कूल हैं और छह से आठ स्कूल के जाने वाले बच्चे इससे होकर गुजरते हैं। यहां दुव्यर्वस्था का आलम यह है कि जरा सी बरसात हुई नहीं कि यह सड़क नर्क में तब्दील हो जाती है। दोपहिया वाहन तो छोड़िये स्कूली बच्चे कीचड़ में गिरते पड़ते स्कूल जाने पर मजबूर रहते हैं। तमाम निरीक्षण के बावजूद भी अधिकारियों की नजर इस पर नहीं पड़ती सब एक दूसरे की जिम्मेदारी बताकर समस्या को टालने का काम करते हैं। ऐसे में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के 31 दिसम्बर को गांव में आने की सूचना से ग्रामिणों में काफी उत्साह है उन्हें ऐसा लग रहा है कि अगर डिप्टी सीएम इसपर ध्यान दे दें तो हमारी वर्षों पुरानी समस्या तुरंत दूर हो सकती है।

महीनों से रूका है सड़क निर्माण का काम

सेमरा रोड से देहरादून स्कूल की ओर तक सीसी रोड निर्माण काम मार्च में शुरू हुआ तो ग्रामिणों को लगा कि इस वर्ष बरसात में नर्क नहीं भोगना पड़ेगा। पर मात्र 100 मीटर सड़क निर्माण के बाद काम जो रूका वह आज तक शुरू नहीं हो सका है। इसको लेकर ग्रामिणों ने कई बार संबंधित अधिकारियों सहित मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल पर शिकायत भी की। पर एक दूसरे पर टालमटोल करके और तुरंत काम लगाने का आश्वासन देकर इसको टाल दिया गया। इस सड़क की स्थिति आज भी वही है।

"हमें आपार खुशी है कि हमारे गांव में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य आ रहे हैं। इसके साथ इस बात कि और बड़ी ख़ुशी है कि उनके आगमन से गांव की बुनियादी सुविधाएं और बेहतर होंगी। हम चाहते हैं कि उपमुख्यमंत्री का काफिला देहरादून स्कूल-सेमरा रोड मार्ग से निकले जिससे उस सड़क की बदहाल स्थिति से वे रू-ब-रू हों। इसके लिए हम पूरा प्रयास करेंगे और कोशिश रहेगी कि वह सड़क बन जाए और लोग राहत की सांस लें।"         छोटेलाल पटेल, ग्राम प्रधान, डोमरी

डिप्टी सीएम को वहां नहीं ले जाना चाहते अधिकारी
सूत्रों के अनुसार डिप्टी सीएम डोमरी के अधूरे हेलीपैड पर हेलीकॉप्टर से उतरेंगे उसके बाद जनार्दन स्वामी आश्रम में जाएंगे। तत्पश्चात वे पंचायत भवन स्थित सरदार पटेल की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगे। वहां वे ग्रामिणों को संबोधित भी कर सकते हैं। इसके बाद ग्राम प्रधान छोटेलाल पटेल का मन है कि डिप्टी सीएम देहरादून स्कूल-सेमरा मार्ग से होकर गुजरें जिससे वे समस्या की जमीनी हकीकत से रू-ब-रू हों पर इसमें कुछ अधिकारी खींच-तान कर रहे हैं। अधिकारियों को लग रहा है डिप्टी सीएम के उस मार्ग से जाने से उनकी कलई खुल जाएगी। अब देखना यह है कि अधिकारी अपने मकसद मे कामयाब होते हैं या डिप्टी सीएम जनता के दर्द रू-ब-रू होते हैं।

-अमरेन्द्र पाण्डेय