वाराणसी: रंग लाई 'रणभेरी' की खबर, बीएचयू 'सिंह द्वार' पर हुई महामना के प्रतिमा की साफ-सफाई

वाराणसी: रंग लाई 'रणभेरी' की खबर, बीएचयू 'सिंह द्वार' पर हुई महामना के प्रतिमा की साफ-सफाई

रणभेरी के खबर के बाद नींद से जागा बीएचयू प्रशासन
बुधवार की शाम को ही प्रतिमा के सफाई के लिए पहुंचे बीएचयू के सफाईकर्मी
गुरुवार की सुबह प्रतिमा की सफाई कर चढाया गया फूलमाला

वाराणसी(रणभेरी): काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर लगी भारतरत्न महामना पं. मदन मोहन मालवीय जी की प्रतिमा महीनों से उपेक्षा की शिकार हो चुकी थी। प्रतिमा पर मोटी धूल की चादर जमी थी, जिससे वह बदरंग दिखाई दे रही थी। वहीं प्रतिमा के चारो तरफ फव्वारे के गोलंबर में सीवर से भी गंदा बददबूदार पानी भरा था, जिसमें खाली बोतलें, प्लास्टिक, कूड़ा और गंदगी की भरमार थी। 

इस खबर को आपके अपने अखबार रणभेरी ने बुधवार के अंक में ‘सीवर से भी गंदे पानी में खड़ी प्रतिमा, उसपर जमी मोटी धूल की चादर, क्या यह नहीं हैं महामना का अनादर’ शीर्षक से प्रमुखता से प्रकाशित की थी। खबर प्रकाशित होने के बाद इस खबर की कटिंग को बीएचयू के कई छात्रों ने सोशल मीडिया पर पोस्ट करना शुरू किया। बिरला छात्रावास में रह रहे छात्र अभिषेक उपाध्याय ने चीफ प्रॉक्टर से फोन पर बात कर और ख्ुाद उनसे मिलकर इसपर कड़ा रोष व्यक्त किया। 

खबर प्रकाशित होने के बाद बीएचयू प्रशासन और उनके अधिकारियों की नींद खुली और खबर प्रकाशन के मात्र तीन घंटे बाद ही विश्वविद्यालय के 5-6 सफाईकर्मी प्रतिमा के पास पहुंच गए। करीब 8 बजे तक प्रतिमा के आस-पास सफाई का कार्य चलता रहा। वहीं गुरुवार की सुबह प्रतिमा की भी सफाई करके उसपर फूलमाला चढ़ाया गया। कल तक मलीन पड़ी महामना की प्रतिमा एकाएक चमक उठी। छात्रों ने सोशल मीडिया पर रणभेरी को शुक्रिया कहा।