वाराणसी: हाईकोर्ट का नियम-कानून हो रहा धराशायी, शराब बिक्री की कालाबाजारी जारी

वाराणसी: हाईकोर्ट का नियम-कानून हो रहा धराशायी, शराब बिक्री की कालाबाजारी जारी

 आबकारी विभाग के अधिकारी और कर्मचारी महज छानबीन करने के नाम पर वसूली करने तक सीमित

वाराणसी(रणभेरी): शराब की ब्रिकी करने  के लिए समय सीमा हाईकोर्ट द्वारा तय किया गया है। यदि इस समय सीमा अवधि के अलावा दुकान खुलता या दुकान से शराब की बिक्री होती है तो कार्रवाई करने के लिए जिला आबकारी अधिकारी और स्थानीय पुलिसकर्मियों  को निर्देश दिया गया। बावजूद इसके अलसुबह दुकान खोलकर अत्यधिक कीमत पर शराब की बिक्री शुरू हो जाती हैं और जिम्मेदार पैसे के खेल में उलझकर रह गये हैं।

किसी की तो होगी संलिप्तता:

पुलिस और आबकारी विभाग के चंद अधिकारियों और कर्मचारियों  के इस खेल में लिप्त होने के कारण पूरे जिले में देशी और अंग्रेजी, बियर के ठेके से बिक्री शुरु हो जाती हैं। शराबी सुबह शराब पीकर आतंक मचाना शुरु कर देंते हैं। स्थानीय लोगों की शिकायत के बाद पुलिस आबकारी विभाग के अधिकारी उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करते हैं।

दुकान खुलते ही लग जाती है खरीददारों की लाइन:

पुलिस सूत्रों और  स्थानीय लोगों  की मानें तो आदमपुर, कोतवाली, भेलूपुर, लंका, सिगरा, शिवपुर, दशाश्वमेध, आदमपुर, जैतपुरा  सहित देहात के मिर्र्जामुराद, रोहनिया, जंसा, बड़ागांव, चोलापुर, फूलपुर  सहित लगभग सभी थाना क्षेत्रों में शराब की दुकानें अलसुबह खुल जाती हैं। दुकान खुलते ही खरीददारों की लाइन लग जाती हैं।