वाराणसी: सिगरा सीएनजी स्टेशन पर कर्मचारी ने ऑटो चालक को पीटा, मूल्य से अधिक पैसा लेने का कर रहा था विरोध

वाराणसी: सिगरा सीएनजी स्टेशन पर कर्मचारी ने ऑटो चालक को पीटा, मूल्य से अधिक पैसा लेने का कर रहा था विरोध

सीएनजी गैस के मूल्य से अधिक लिया जा रहा पैसा
विरोध करने पर कर्मचारी ने गुरुवार को ऑटो चालक को पीटा
घटना को कवर कर रहे पत्रकार को पेट्रोल पंप के मालिक ने दबंगई से जबरन बंद करवाया कैमरा

वाराणसी(रणभेरी): प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र को एक ओर जहां शासन-प्रशासन अपराध मुक्त और शांति युक्त हाने का दावा कर रहा है वहीं दूसरी ओर हकीकत यह है कि सिगरा स्थित एक पेट्रोल पंप पर ऑटो चालकों से सरेआम गुंडागर्दी हो रही है। एक तो चोरी ऊपर से सीनाजोरी को चरितार्थ करते हुए इस पेट्रोल पंप पर खुलेआम ऑटो चालकों से सीएनजी गैस के मूल्य से अधिक पैसे वसूले जा रहे हैं।

विरोध करने पर पेट्रोल पंप के मालिक महेन्द्र सिंह के शह पर ऑटो चालकों को बेहरमी से पीटा भी जा रहा है। शहर के मध्य क्षेत्र में खुलेआम ऑटो चालकों को लूटा जा रहा है और प्रशासन मौन है। पेट्रोल पम्प के मालिक महेन्द्र सिंह अपनी दबंगई के आगे किसी को कुछ नहीं समझता। इसकी मनबढई और दबंगई देखिए कि ऑटो चालकों की दर्द की दास्तां को कवर कर रहे रणभेरी के पत्रकार को उसने धमकी देकर जबरन कैमरा बंद करवाया।

 

घटना उस समय की है जब गुरुवार को सिगरा स्थित एक पेट्रोल पंप ऑटो चालक पेट्रोल पंप पर गैस भरवाने गया ऑटो चालक ने 119 का गैस भरवाया जबकि उससे 125 लिया गया। जिसको लेकर बात ही बात में पेट्रोल पंप के कर्मचारी से बहस हो गई। जिस पर पेट्रोल पंप के कर्मचारी ने आव न देखा ताव और ऑटो चालक को बुरी तरह से पीट दिया। संजय ने बताया कि गैस के मीटर का कांटा 200 बताना चाहिए लेकिन 150 ही बता रहा है। उसने बताया कि इस घटना का मैं अकेला ही शिकार नहीं हूं बल्कि जितने भी ऑटो में गैस भरे जाते हैं उन सबसे पांच और सात बढ़ा कर लिया जाता है और जिसका पर्ची भी नहीं दिया जाता है।

 संजय ने कहा कि गैस भरवाना हम लोगों की मजबूरी है जिसका फायदा पेट्रोल पंप के   मालिक व कर्मचारी उठाते हैं। जब इसकी पड़ताल करने के लिए रणभेरी की टीम   सिगरा पेट्राल पंप पर पहुंची तो जितने भी ऑटो लाइन से गैस भरवाने के लिए खड़े थे   सभी ऑटो चालकों ने कहा कि यहां मनमाना पैसा वसूला जाता है, मूल्य से अधिक   गैस का कीमत लिया जाता है और जिसकी कोई रसीद भी नहीं दिया जाता। रणभेरी   की टीम इस भ्रष्टाचार के न्यूज को अपने कैमरे में कवर कर ही कर रही थी तभी   पेट्रोल पंप के मालिक महेंद्र सिंह आकर रिपोर्टर को धमका कर कैमरा नीचे करने की   बात करने लगा और अपनी दबंगई दिखाकर कैमरे को बंद करवा दिया।