वाराणसी: गुरुधाम के लक्ष्मी निवास में मिली अधेड़ की लाश, परिजनों ने जताई हत्या की आशंका

वाराणसी: गुरुधाम के लक्ष्मी निवास में मिली अधेड़ की लाश, परिजनों ने जताई हत्या की आशंका

भेलूपुर थानान्तर्गत एक घर में संदिग्ध परिस्थितियों में लाश मिलने से मच गया हड़कंप
नवाबगंज निवासी विनोद गुप्ता के रूप में हुई मृतक की पहचान, करता था डिश का काम

वाराणसी(रणभेरी): भेलूपुर थानाक्षेत्र के गुरुधाम स्थित एक मकान में के बालकनी में गुरुवार को संदिग्ध परिस्थितियों में एक अधेड़ की लाश मिलने से हड़कंप मच गया। नबावगंज खोजवा निवासी विनोद कुमार गुप्ता 39  वर्षीय का शव गुरुवार की सुबह घर से पांच सौ मीटर दूर गुरुधाम स्थित वाराणसी अस्पताल के बगल में रहने वाले अधिवक्ता दिनेश गिडोडिया के मकान के पीछे जमीन पर पड़ा मिला। अधिवक्ता दिनेश कुमार ने पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पहुंची पुलिस पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से पुलिस विनोद के परिजनों से संपर्क किया। पुलिस ने मौके पर लगे सीसीटीवी कैमरे के डीवीआर को कब्जे में लिया। पुलिस विनोद के दो साथियों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

इंस्पेक्टर भेलुपुर राजीव रंजन उपाध्याय ने बताया कि मृतक की मोटरसाइकिल नबावगंज चौराहे पर मिली है। वहां से वह घटना स्थल पर कैसे पहुंचे। इस बात की जांच करने के साथ बगल के मकानों से उसके गिरने की आशंका व्यक्त किया जा रहा। पुलिस के जांच में अभी तक निकल कर आया है कि मृतक सट्टा खेलता था।
नबाबगंज के रहने वाले काशी नाथ गुप्ता के तीन बेटे थे। बड़ा बेटा राजेश व वंशीधर सबसे छोटा विनोद था। विनोद  केबल का काम करता था। विनोद अपनी पत्नी  रेशमा और बड़ा बेटा अभिषेक 16 वर्ष, प्रतीक और दो बेटियां खुशी और लाडो के साथ रहते थे। 

पोस्टमार्टम हाउस पहुंची पत्नी रेशमा व  परिजनों ने उसकी हत्या कर शव फेंकने का आरोप लगाने लगे। रेशमा ने बताया कि वह बुधवार को दिन में 11 बजे घर से निकले थे, लेकिन रात 8 बजे तक नहीं लौटने पर उनको फोन की। फोन करने पर गाना बज रहा था और वह बोले कि एक घण्टे बाद वापस लौट कर आऊंगा। इसके बाद 9 बजे फोन करने पर उनका फोन नहीं। दोबारा मिलाने पर उनका नंबर बन्द बताने लगा। उनके पैर और जुते में मिट्टी और घास लगा था। इनका आरोप है कि जिस घर में उसके पति का शव मिला था, उस घर मे प्रवेश नहीं करने दिया। इसके पहले वर्ष 2008 में भी एक युवक का शव इनके मकान में मिल चुका है।

वहीं दूसरी तरफ मकान मालिक का कहना है कि देर रात 11:30 बजे घर का गेट बंद किया गया। उस समय ऐसी कोई मामला नहीं था। घर में लगा सीसीटीवी कैमरे का नाईट विजन काम नहीं करने से थोड़ा लोगों का शक बढ़ गया है। घटना की गंभीरता को देखते हुए मौके पर एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह पहुंचे और मकान मालिक और मृतक विनोद के परिजनों से बात की। घटना के सम्बन्ध में एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि पुलिस को 112 नंबर पर फोन आया था कि जवाहर नगर स्थित लक्ष्मी निवास में एक डेड बॉडी मकान के अंदर पड़ी हुई है। यह फोन काल मकान मालिक ने किया था।