वाराणसी: पड़ोसी के गोशाले में मिली युवक की खून से सनी लाश, मुकदमे में था गवाह

वाराणसी: पड़ोसी के गोशाले में मिली युवक की खून से सनी लाश, मुकदमे में था गवाह

फूलपुर थानाक्षेत्र के घोंघरी गांव की घटना, परिजनों ने जताई हत्या की आंशका

वाराणसी(रणभेरी): बड़ागांव फूलपुर थानाक्षेत्र के घोंघरी गांव में गुरुवार की सुबह पड़ोसी के गौशाला में 38 वर्षीय युवक की खुन लगी लाश मिलने से परिवार में कोहराम मच गया। सूचना पर पहुंची पुलिस लाश को कब्जे में लेकर विधिक कार्रवाई में लगी हुई थी। मृतक के परिजनों ने हत्या की आशंका जतायी है। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार उपरोक्त गांव निवासी सुनील उर्फ डब्लू गिरी 38 वर्ष पुत्र महेन्द्र गिरी कल रात खाना खाकर अपने दो पुत्रों के साथ कमरे में सोया था इसी बीच रात में किसी समय घर से बाहर निकल गया। सुबह 5 बजे भोर में उसके लड़के जब उठे तो देखा बाहर से दरवाजा बंद है। लड़कों के शोर मचाने पर परिवार के अन्य सदस्य जागकर दरवाजा खोले तो लड़को ने बताया पिताजी गायब है। परिजन खोजने निकले तो पड़ोस के गौशाला में औंधे मुंह गिरे हुए मिले, उनके नाक से काफी खुन निकला हुआ था। परिजनों ने जब देखा तो उनकी इहलीला समाप्त हो चुकी थी। आनन फानन में पास के निजी चिकित्सक को बुलाया गया चिकित्सक ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। 

घटना की सूचना मिलते ही ग्रामीण पुलिस अधीक्षक एम पी सिंह क्षेत्राधिकारी पिंडरा अनिल राय एवं थाना प्रभारी फुलपुर डाग स्क्वायड के साथ मौके पर पहुंचकर छानबीन करने लगे। मृतक के पिता और बड़े भाई बबलू गिरी का कहना है कि बीती रात किसी ने इनको बुलाया और हत्या कर दिया है। वहीं पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हत्या की स्थिति स्पष्ट हो पायेगी। 

मृतक अपना निजी विक्रम टैंपो चलाकर अपना और दो पुत्रो का भरण पोषण करता था इनकी पत्नी का तीन माह पुर्व बिमारी के चलते निधन हो गया था। परिजन यह आशंका जता रहे थे कि मृतक एक 307 के मुकदमे में गवाह था, हो सकता है गवाही देने से रोकने के लिए उसकी हत्या कर दी गई है। पुलिस विभिन्न पहलुओं पर जांच कर रही है।