वाराणसी: बीएचयू के छात्र श्रद्धाभाव से चला रहे भंडारा, अपने पॉकेटमनी से करते हैं जरूरतमंदो सहयोग

वाराणसी: बीएचयू के छात्र श्रद्धाभाव से चला रहे भंडारा, अपने पॉकेटमनी से करते हैं जरूरतमंदो सहयोग

प्रत्येक शनिवार को आयोजित भंडारे में सैकड़ो लोग करते है प्रसाद ग्रहण

वाराणसी(रणभेरी): वाराणसी में एक कहावत बहुत प्रसिद्ध है और सोलह आने सत्य भी है कि काशी में कोई भूखा नहीं सोता है। काशी में हर रोज कहीं न कहीं किसी मंदिर, मठ या गुरूद्वारे में भंडारे का अनवरत आयोजन चलता रहता है, जिसमें सैकड़ो लोग प्रतिदिन प्रसाद ग्रहण करते है। काशी में अस्सी घाट पर भी प्रत्येक शनिवार को एक ऐसा ही भंडारा चलता है जिमसें सैकड़ो लोग प्रसाद ग्रहण करते है।

अस्सी अन्न क्षेत्र के तत्वावधान में पिछले तीन वर्षो से प्रत्येक शनिवार को भंडारे चल रहा है। इस भंडारे की खास बात यह है कि इसको संस्था के सदस्य जिसमें बहुत से बीएचयू के छात्र हैं, खुद तैयार करते है। भंडारा बनाने के लिए सभी सदस्य सुबह 4 बजे उठ जाते है और भोजन बनाकर सबको बैठाकर प्रेम से खिलाते है। साथ ही संस्था के सदस्य जरूरतमंदो को दवा, कपड़ा, कम्बल भी उपलब्ध कराते हैं साथ ही गरीब लड़की के शादी में भी सहयोग करते हैं। 

संस्था के सदस्य संजय मुखर्जी, राधे झा, सुरेश यादव, आशु, नितेश गुप्ता, रजत सिंह, अंकित शर्मा, दीपक झा, अमरीश पांडेय, प्रकाश तिवारी, रमेश सहानी, प्रणव सिंह, अभिकंत सिंह  अपने पास से हर हफ्ते का पैसा लगाते है।