कोरोना संकट के बीच उद्धव ठाकरे का बड़ा ऐलान, बाकी के किसानों का ऋण भी माफ

कोरोना संकट के बीच उद्धव ठाकरे का बड़ा ऐलान, बाकी के किसानों का ऋण भी माफ

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में किसानों के कर्ज को लेकर भाजपा लगातार प्रदेश की उद्धव ठाकरे सरकार पर हमलावर है। इस बीच किसानों के कर्ज को लेकर उद्धव ठाकरे ने बड़ा ऐलान किया है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र में आदर्श चुनाव संहिता और कोरोना महामारी की वजह से किसानों के कर्ज माफ करने में कुछ दिन की देरी हुई। लेकिन अब हमने फैसला लिया है कि हम बाकी बचे किसानों के कर्ज को माफ करने की प्रक्रिया शुरू कर रहे हैं। 

गौरतलब है कि भाजपा ने सोमवार को प्रदेश के प्रमुख चंद्रकांत पाटिल की अगुवाई में प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए कोल्हापुर डीएम कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया था। उन्होंने कहा था कि मानसून खत्म हो चुका है, बुआई भी खत्म हो चुकी है, लेकिन फिर भी किसानों को फसल का ऋण नहीं मिल रहा है। किसानों को बेमौसम बारिश की वजह से काफी मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। सरकार ने किसानों के लिए मुआवजे का ऐलान किया था, लेकिन उन्हें अभी तक कुछ नहीं मिला। सरकार ने कहा था कि प्रति हेक्टेअर 25000 से 50000 रुपए तक का मुआवजा दिया जाएगा, लेकिन किसानों को कुछ नहीं दिया गया। 

बता दें कि मार्च माह में ठाकरे सरकार ने अपना बजट पेश किया था। प्रदेश के वित्त मंत्री अजित पवार ने सितंबर 2019 तक कर्ज लेने वाले सभी किसानों का दो लाख रुपए तक का कर्ज माफ करने का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि जिन किसानों का कर्ज दो लाख से ज्यादा है, उन्हें सरकार दो लाख की सब्सिडी देगी। जिन किसानों ने 2018-19 में कर्ज लिया है और नियमित तौर पर अपनी किस्त भर रहे हैं, उन्हें 50 हजार रुपए का इंसेटिव दिया जाएगा।