जम्मू-कश्मीर में स्वतंत्र है मीडिया: अमित शाह

जम्मू-कश्मीर में स्वतंत्र है मीडिया: अमित शाह

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाये जाने के बाद वहां इंटरनेट सर्विस पर रोक को हटाये जाने को लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि सुरक्षा कारणों को देखते हुए स्थानीय प्रशासन जब भी ठीक समझेगा, अपने स्तर पर फैसला लेगा। जम्मू-कश्मीर से 5 अगस्त को आर्टिकल 370 हटाया गया था और साथ ही लद्दाख को इससे अलग कर इसे केंद्र शासित प्रदेश भी बनाने का फैसला हुआ। 

अमित शाह ने साथ ही कहा कि जम्मू-कश्मीर में दवाओं की पर्याप्त मात्रा उपलब्ध है और बड़ी संख्या में अस्पतालों में लोग भी आ रहे हैं। गृह मंत्री ने ये बातें राज्यसभा में कश्मीर के हालात सामान्य होने को लेकर पूछे गये सवाल पर कही।

'इंटरनेट जल्द शुरू हो, ये हम भी चाहते हैं'

अमित शाह ने कहा, 'इंटरनेट को जल्दी शुरू करना चाहिए, मैं इस बात से सहमत हूं, लेकिन जब देश की सुरक्षा का सवाल है तो प्रथमिकता तय करनी पड़ती है। जब स्थानीय प्रशासन को सही लगेगा तो वे इसपर विचार करेंगे।' अमित शाह ने ये भी भरोसा जताया कि जम्मू-कश्मीर में पेट्रोल, डीजल, किरोसिन और एलपीजी की भी पर्याप्त उपलब्धता है। अमित शाह ने कहा, 'पेट्रोल, डीजल, किरोसिन, एलपीजी और चावल पर्याप्त मात्रा में है। 22 लाख मेट्रिक टन सेब के उत्पादन की उम्मीद है। सभी लैंडलाइन भी खुले हैं।'

शाह ने साथ ही कहा कि अगर उनकी बताई बातों में सच्चाई नहीं है तो वे बहस के लिए तैयार हैं। गृह मंत्री ने कहा, मैं गुलाम नबी आजाद साहब को इन बातों पर चुनौती देने के लिए कहता हूं। आप इन बातों पर आपत्ति क्यों नहीं जता रहे हैं। मैं इस मुद्दे पर एक घंटे तक चर्चा के लिए तैयार हूं।' 

'जम्मू-कश्मीर में स्वतंत्र है मीडिया'

अमित शाह ने राज्य सभा में साथ ही कहा कि जम्मू-कश्मीर में मीडिया स्वतंत्र तरीके से काम कर रहा है। गृह मंत्री ने कहा, सभी उर्दू/अंग्रेजी अखबार और टीवी चैनल काम कर रहे हैं। बैंकिंग सेवाएं भी ठीक ढंग से काम कर रही हैं। सभी सरकारी कार्यालय खुले हैं। ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल के चुनाव हुए और 98.3 प्रतिशत वोटिंग भी हुई।