कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे उज्जैन से हुआ गिरफ्तार, महाकाल मंदिर में बोला- 'मैं हूं विकास दुबे कानपुर वाला'

कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे उज्जैन से हुआ गिरफ्तार, महाकाल मंदिर में बोला- 'मैं हूं विकास दुबे कानपुर वाला'

भोपाल: कानपुर एनकाउंटर का मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे को पुलिस ने उज्जैन से गिरफ्तार कर लिया है। विकास दुबे को पुलिस ने महाकाल मंदिर से गिरफ्तार किया है। विकास दुबे ने मंदिर के अंदर जाकर सरेंडर करने की कोशिश की थी। विकास दुबे लगातार कानपुर शूटआउट के बाद पुलिस को पिछले सात दिनों से चकमा दे रहा था। उसने महाकाल मंदिर में सिक्यॉरिटी गार्ड को अपनी पहचान बताई और फिर उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

एनबीटी ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि विकास दुबे महाकाल मंदिर पहुंच कर खुद ही  चिल्ला-चिल्ला कर शोर मचाने लगा और कहने लगा, मैं हूं विकास दुबे। जिसके बाद मंदिर प्रशासन ने पुलिस को सूचना दी और उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। विकास को महाकाल मंदिर से पहले महाकाल थाना ले जाया गया। बताया जा रहा है कि इसके बाद उसे कहीं गुप्त स्थान पर ले जाकर पूछताछ की जाएगी। 


कानपुर में मुठभेड़ दो और तीन जुलाई की रात तकरीबन एक से डेढ़ बजे के बीच हुआ। पुलिस की टीम हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को गिरफ्तार करने के लिए उसके घर बिकरू गांव गई थी। जैसे ही पुलिस की एक टीम के घर के पास पहुंची, उसी दौरान छत से पुलिस पर र अंधाधुंध गोलीबारी की गई। जिसमें  प्रदेश पुलिस के आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए।

पुलिस ने आज ( 9 जुलाई) विकास दुबे के दो साथी प्रभात मिश्रा और रणबीर शुक्ला को एनकाउंटर में मार गिराया था। जिसके बाद आज विकास की गिरफ्तारी हुई। प्रभात मिश्रा और रणबीर उर्फ बउअन विकास दुबे के गैंग में शामिल थे। पुलिस ने बताया कि दोनों एनकाउंटर में मारे गए आरोपी पुलिस पर फायरिंग करने के लिए दो जुलाई की रात को बिकरू गांव में मौजूद थे।   पुलिस के मुताबिक प्रभात मिश्रा और रणबीर शुक्ला दोनों भागने की फिराक में थे। ऐसे में पुलिस ने एनकाउंटर में उन्हें मार गिराया।