मुबारक महीना: रमजान के दौरान घरों में ही रहकर करें इबादत- शाही इमाम

मुबारक महीना: रमजान के दौरान घरों में ही रहकर करें इबादत- शाही इमाम

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के कारण पूरे विश्व में हाहाकार मच हुआ है। कोरोना महामारी की चेन को तोड़ने के लिए देश में लॉकडाउन लागू है। इसी बीच 24 अप्रैल से रमजान का मुबारक महीना भी शुरू हो रहा है। रमजान के मुबारक महीने में देशभर के उलेमाओं ने मुसलमानों से अपील की है कि वे अपने-अपने घरों में रहकर ही इबादत करें। ऐसा करने से वे अपने परिवार और देश को इस खतरनाक बीमारी से बचा सकते हैं।

जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने लोगों से कहा कि हुकूमत की हिदायतों पर चलकर हम खुद को और अपने मुल्क को बचा सकते हैं। सभी लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। नमाज और तरावीह अपने-अपने घरों में ही अदा करें। इसके अलावा जो लोग कोरोना बीमारी का शिकार होकर ठीक हो गए हैं, वे जरूर दूसरे लोगों के लिए अपना खून (प्लाज्मा) दान करें।

फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम डॉ. मुफ्ती मुकर्रम अहमद ने कहा कि कोरोना वायरस से आज पूरी दुनिया परेशान है। सरकार ने इस वायरस को खत्म करने के लिए ही लॉकडाउन किया हुआ है। ऐसे में हमें सरकार और डॉक्टरों की बात माननी है। रमजान के दौरान सभी लोग अपने-अपने घरों में रहकर ही इबादत करें। सहरी और इफ्तार के समय किसी भी सूरत में बाहर न निकलें। इसके साथ ही, किसी भी पड़ोसी को न तो अपने घर बुलाएं और न ही उसके घर जाएं।