बोले बनारसी- बिजली बिल से जनता हो रही परेशान, सरकार जान कर बन रही अनजान

बोले बनारसी- बिजली बिल से जनता हो रही परेशान, सरकार जान कर बन रही अनजान

इस सरकार में घर बेंचे, जेवर बेंचे या खुद बिक जाएं पर भरना पड़ेगा बिजली का बिल
आखिर क्यों नहीं पिघल रहा है प्रदेश सरकार का दिल, जनता के दर्द से किसी का नहीं है वास्ता

'बिजली का झटका'

वाराणसी(रणभेरी): कोरोना का कहर झेल रही जनता को राहत देने का सरकार का वादा फेल होता नजर आ रहा है। अनलॉक के बाद भी जनता रोजी-रोटी की समस्या से जूझ रही है और सरकार कुछ बुझ नहीं रही है। आलम यह है कि घर-परिवार चलाने की चिंता के बोझ के तले दबे गरीबों के सिर पर बिजली बिल का बोझ लाद दिया गया है। रणभेरी से बातचीत के दौरान बनारस के लोगों ने कहा कि सरकार एकदम बेरहम हो गई है।

यह भी पढ़ें: बोले बनारसी- विकास की ‘रेल’ के बहाने, सरकार खेल रही बिजली बिल का खेल

बेतहासा बढ़ रही बिजली बिल से जनता परेशान है पर सरकार का दिल पिघल नहीं रहा है। ऐसा नहीं कि प्रदेश की योगी सरकार को जनता के समस्या के बारे में पता नहीं है। सरकार को सब मालूम है बावजूद वह जानकर अनजान बनी हुई है। लोगों ने कहा कि अब तो स्थिति यह हो गई कि चाहें घर बेंचे, जेवर बेचें या खुद बिक जाएं पर हर हाल में बिजली बिल जमा करना है। पहले काफी बकाया होने के बाद भी कनेक्शन नहीं काटा जाता था पर अब जब आम जनता आफत काल से जूझ रही है।

यह भी पढ़ें: बनारसियों ने कहा- पब्लिक की उम्मीदें हुई किल, सरकार कह रही जस्ट चिल!

ऐसे समय में मामूली बकाये पर बिजली विभाग द्वारा कनेक्शन काट दिया जा रहा है। लोगों के घरों में अंधेरा हो जा रहा है यह तानाशाही नहीं तो और क्या है। लोगों ने कहा कि हमारी सरकार से मांग है कि वे जनता के दुख दर्द को समझें और जल्द से जल्द बिजली बिल को लेकर कोई राहत की खबर आम जनता के सामने लाएं। नहीं तो आम जनता कोरोना से कम बिजली बिल के भार से और उसे चुकाते चुकाते मर जाएगी।

यह भी पढ़ें: बोलें बनारसी- जनता नहीं सह पा रही बिजली बिल का भार, रहम करो योगी सरकार

इंग्लिशियालाइन निवासी मोहम्मद हनीफ कहते हैं कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार जनता को बिजली, पानी सस्ते दर पर उपलब्ध कराने का वादा करके आई थी, लेकिन सत्ता मिलते ही वह दोनों वादा भूल गयी। जनता के उपर स्मार्ट मीटर के नाम पर दो गुना-तीन गुना बिजली बिल भेजकर उससे जबरदस्ती वसूल रही है।  लॉकडाउन में काम धंधा बंद था जनता कहां से बिजली बिल जमा करे।

कैंट निवासी सरफराज खान ने कहा कि स्मार्ट मीटर जबसे लगा है बिजली बिल बहुत अधिक आ रहा है। कोरोना संक्रमण के कारण रोजगार धंधा पूरी तरह से बंद है, हम बिजली का बिल कहां से जमा करे। योगी सरकार को चाहिए की वह सरकार को कुछ बिजली बिल में छूट दे, जिससे वह सरलता से बिल जमा कर सके।

यह भी पढ़ें: बोलें बनारसी- बज रहा बिजली वसूली का डंका, हाथ में कटोरा पकड़ाने की है सरकार की मंशा

समाजसेविका प्रीति मिश्रा का कहना है कि प्रदेश में लगे स्मार्ट मीटर से बिजली के बिल बहुत अधिक आ रहा है। पिछले छह महीने से व्यापार व रोजगार मंदी के दौर से गुजर रहा है। ऐसे समय में जनता बिजली का बिल कहां से जमा करेगी। हम देश व प्रदेश की आधी आबादी सरकार से मांग करते है कि बिल में कुछ तो रियायत करें।

स्कूल प्रबंधक सरोज राय ने कहा कि लॉकडाउन में कोई काम नहीं हो रहा था। स्कूल पूरी तरह से बंद था, अभिभावक अपने बच्चों को फीस नहीं जमा कर रहे है हमलोग बिजली का बिल कहां से जमा करे। सरकार को चाहिए कि बिजली बिल में कुछ छूट दे ताकि हमलोग उसे जमा कर सके। जबसे स्मार्ट मीटर लगा है, बिजली का बिल कई गुना बढ़कर आ रहा है। सरकार को इसकी खामी को दूर करनी चाहिए। 

यह भी पढ़ें: बनारसियों की सरकार को दो टूक, दिल्ली के बिजली बिल में छूट तो यूपी में क्यों हो रही जनता से लूट?

भोजूबीर निवासी हिना शेख़ कहती हैं कि चार से पांच महीना देश व प्रदेश पूरी तरह से कोरोना के कारण लॉकडाउन में था। उपर से बिजली विभाग द्वारा लगाये गये स्मार्ट मीटर की वजह से बिजली बिल बेतहाशा बढ़कर आ रहा है। काम धंधा बंद होने के कारण परिवार चलाना मुश्किल हो रहा है, हमलोग बिजली बिल कहां से जमा करेंं।