अखिलेश यादव का दावा, सीएम योगी से 300 विधायक नाराज, हिंसा में 18 लोग पुलिसकर्मियों के गोलियों से मरे

अखिलेश यादव का दावा, सीएम योगी से 300 विधायक नाराज, हिंसा में 18 लोग पुलिसकर्मियों के गोलियों से मरे

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने दावा किया है कि सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके खुद के 300 विधायक नाराज चल रहे हैं। सीएम योगी ने अपनी कुर्सी बचाने के लिए यूपी पुलिस को फ्री हैंड दिया। अखिलेश यादव ने दावा किया है कि यूपी में 19 में 18 लोगों की मौत पुलिसकर्मियों की गोली से हुई है।

इंडियन एक्सप्रेस को दिए एक इंटरव्यू में पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, "यूपी सरकार को मिले मानवाधिकार आयोग के नोटिसों की संख्या देखें। यूपी को हिरासत में हुई मौतों और फर्जी मुठभेड़ों के लिए सबसे बड़ी संख्या में नोटिस मिले हैं। आपको हमारी सीएम की भाषा सुननी चाहिए। इस राज्य ने महान मुख्यमंत्रियों को देखा है, लेकिन उनमें से किसी ने भी सदन के पटल पर "ठोक दो" नहीं कहा होगा। मुख्यमंत्री ने ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया और पुलिस को खुली छूट दी क्योंकि 200 से ज्यादा विधायक नाराज थे। अपनी कुर्सी बचाने के लिए उन्होंने खुली छूट दी।'' 

उन्होंने कहा कि 'मैं सच कह रहा हूं। समाजवादियों ने झूठे आरोप नहीं लगाए। क्या 200 विधायक विरोध पर नहीं बैठे? उसके साथ 100 विधायकों की नाराजगी जोड़ें तो यह आंकड़ा 300 पहुंचता जिससे मुख्यमंत्री परेशान हैं। उन्हें बदलने की चर्चा थी। इस प्रकरण के बाद, क्या आपको लगता है कि भाजपा उन्हें हटाने की हिम्मत कर सकती है? सरकार के लोग खुश हैं कि अगले छह महीनों में निवेश के बारे में कोई पूछने वाला नहीं है।"

अखिलेश यादव ने दावा किया कि पिछले दिनों हुई हिंसा में ज्यादातर लोगों की मौत पुलिस की गोली से हुई है। उन्होंने कहा, "जैसा कि लोगों ने मुझे बताया है 19 में से 18 संभवतः पुलिस की गोलियों से मारे गए हैं। लोग पुलिस की गोलीबारी में मारे गए हैं, लेकिन सरकार पोस्टमार्टम रिपोर्ट उपलब्ध नहीं करा रही है। मुझे डर है कि सरकार रिपोर्टों के साथ छेड़छाड़ करेगी। मेरी जानकारी यह है कि उन्होंने पहले दिन से पोस्टमार्टम रिपोर्ट का प्रबंधन शुरू कर दिया था।"