.
रविवार , 31 जुलाई 16
Ajeet Singh Varanasi joined BSP





मंजिल की जूस्तजू में मेरा कारवां तो है...- अजीत सिंह


वाराणसी नगर निगम के लोकप्रिय निर्दल पार्षद अजीत सिंह हजारों समर्थकों के साथ बहुजन समाज पार्टी में शामिल


          उत्तर प्रदेश के चुनावी महासंग्राम के लिये हाथी अपने मदमस्त चाल में निकल पड़ा है। प्रदेश की सड़कों पर हाथी की चाल रफ्तार पकड़ते नजर आ रही है। इसका नजारा गंगा-जमुनी तहजीब के लिये मशहूर शहर बनारस में बहुजन समाज पार्टी के शहर दक्षिणी विधान सभा के भव्य कार्यकर्ता सम्मेलन में दिखाई पड़ा। यह मौका था वाराणसी नगर निगम के लोकप्रिय निर्दल पार्षद अजीत सिंह का अपने हजारों समर्थकों के साथ बसपा में शामिल होने का। ढोल-नगाड़े की थाप पर आगे-आगे चल रहे विशालकाय हाथी के साथ खुली जीप पर अपने हजारों समर्थकों के गगनभेदी नारों के बीच तेज तर्रार युवा नेता अजीत सिंह अपने तेवर के अनुसार शोषण और अन्याय के खिलाफ बिगुल फूकने बहुजन समाज पार्टी में शामिल होने जब वाराणसी के तेलियाना जी.टी. रोड स्थित जया गार्डेन में पहुंचे तो पहले से मंच पर मौजूद बसपा के दिग्गज नेताओं और कार्यकर्ताओं ने अजीत सिंह का तालियों की गड़गड़ाहट के साथ स्वागत किया। अजीत सिंह के साथ आये युवा एवं उत्साही समर्थकों की भीड़ देखकर अपने सम्बोधन में बहुजन समाज पार्टी के पूर्व प्रदेश प्रभारी, बिहार एवं वाराणसी के जिला संयोजक शिवबोधराम को कहना पड़ा कि युवाओं की भीड़ देखकर ऐसा लगा रहा है कि वाराणसी में युवा क्रान्ति का बिगुल फूंक दिया गया है। अजीत सिंह के हजारों समर्थकों के साथ बसपा में शामिल होने से गदगद नजर आ रहे कार्यकर्ता सम्मेलन के मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद एवं वाराणसी, इलाहाबाद तथा मिर्जापुर के जोनल कोआर्डिनेटर मुनकाद अली ने कहा कि एक कद्दावर साथी, जिसकी अपनी एक अलग पहचान है अपने हजारों समर्थकों के साथ बसपा में शामिल हुये हैं। हम उनका तहेदिल से स्वागत करते हैं। बसपा में अजीत सिंह के मान-सम्मान में कोई कमी नहीं होने दी जाएगी ये आप सबसे हमारा वादा है।

          राज्यसभा सांसद मुनकाद अली ने कहा कि मैं अजीत भाई को मुबारकबाद देना चाहता हूं और आशा करता हूं कि इनके नेतृत्व में वाराणसी में युवाओं की टीम आगामी विधानसभा चुनाव में वाराणसी की आठों सीट बहुजन समाज पार्टी की झोली में डालने के लिये अपने पूरी ताकत से कार्य करेगी। उल्लेखनीय है कि वाराणसी नगर निगम के राजमंदिर से निर्दल पार्षद अजीत सिंह ने अपने सामाजिक कार्यांे द्वारा जनता के बीच खासी लोकप्रियता हासिल की है। श्री सिंह की बचपन से ही सामाजिक कार्यांे के प्रति गहरी रूचि होने के कारण स्काउट-गाइड के सदस्य के रूप में उल्लेखनीय सेवा कार्यांे के कारण उत्तर प्रदेश के राज्यपाल सूरजभान ने राज्यपाल पुरस्कार तथा राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित किया। वर्तमान में अजीत सिंह अपने वार्ड को आदर्श वार्ड बनाने की दिशा में महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं।

          बसपा में शामिल होने के बाद अजीत सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि बहुजन समाज पार्टी की नीतियों के अनुरूप शोषण व अन्याय के खिलाफ पूरी ताकत से कार्य करूंगा और वाराणसी विधानसभा की आठों सीटों पर बहुजन समाज पार्टी का परचम लहराने का कार्य करूंगा।

          श्री सिंह ने इस अवसर पर एक शेर के माध्यम से अपनी भावनाओं का इजहार किया

"गम नहीं इसका कि मंजिल मिले ना मिले, मंजिल की जूस्तजू में मेरा कारवां तो है"।